भारतीय इतिहास की सबसे खतरनाक तलवारे जिसे कोई नहीं भुला सकता है

अपने शासन शक्ति और ताकत का प्रदर्शन युद्ध को न्योता देता है और युद्ध के लिए महान योद्धाओं की कुछ महान तलवारे इतिहास के पन्नों में अपनी पूरी शान के साथ लहराई. आज हम छत्रपति शिवाजी महाराज की तलवार ,महाराणा प्रताप की तलवार ,सम्राट पृथ्वीराज चौहान की तलवार ,महाराजा रणजीत सिंह की तलवार को प्रणाम करेंगे जिन्होंने बड़े-बड़े सूरमा को एक ही झटके में खंड खंड कर दिया. इन सभी योद्धाओं की तलवारों को जानेंगे जिन्होंने रण के मैदान में अपनी धाक कायम कर दी. इतिहास की सबसे खतरनाक तलवारे जिसे कोई नहीं भुला सकता है.

इतिहास की सबसे खतरनाक तलवारे

इतिहास की सबसे खतरनाक तलवारे : आज से 800 साल पहले चले तो भारत अस्त्र-शस्त्र का एक बहुत बड़ा सौदागर हुआ करता था. भारत में तरह तरह के हथियार बनाए जाते थे. यह अस्त्र शस्त्र  भारतीय लोग अरबिया को बेचा करते थे इन्हीं हथियारों को अरबी यूरोप में बेच दिया करते थे. एक ऐसी ही तलवार यूरोप में पड़ी है जो पूरी दुनिया की सबसे ताकतवर तलवार मानी जाती है.

इस तलवार ने इतिहास में अपना रुतबा कायम किया हुआ है इस तलवार का नाम है दम आस्कत ग्रेट्सवर्ड इसी तलवार को अरब देश में शरीफ al-idrisi कहा जाता है इसी तलवार से सीरिया की सुल्तान सलाहुद्दीन ने सीरिया युद्ध के समय कहर मचा दिया था. इस तलवार ने घोड़े सहित योद्धाओं को काट डाला था. इस तलवार की बनावट पूर्ण रूप से क्षत्रिय शस्त्र कला पर आधारित थी जो भारतीय बाजारों से अरब देश में गई थी. जिसके बदले अरबी हमें घोड़े दिया करते थे.

आइए अब हम भारत के महान योद्धाओं की तलवारों को जानते हैं :

छत्रपति शिवाजी महाराज की तलवार

शिवाजी महाराज की तलवार
छत्रपति शिवाजी महाराज की तलवार

छत्रपति शिवाजी महाराज की तलवार : शिवाजी महाराज के पास तीन अनूठी तलवार थी. जिसमे भवानी तलवार ,जगदंबा तलवार और तुलजा तलवार थी .

मान्यता है कि भवानी तलवार शिवाजी महाराज को खुद राजराजेश्वरी मां भवानी ने दी थी. इसके बाद तुलजा तलवार को शिवाजी महाराज के पिता शाह जी महाराज ने दी थी. और वही जगदंबा तलवार के पीछे का राज कुछ यूं है कि शिवाजी महाराज 7 मार्च 1659 को कोंकण दौरे पर थे तभी महाराज के योद्धा अंबाजी सावंत ने पुस्तैनी जहाज पर धावा बोल दिया.

जहां उन्होंने पुर्तगाल के सेनापति लिओ फर्नांडिस की एक बहुत खूबसूरत तलवार पाई इसके ठीक बाद 16 मार्च को महाशिवरात्रि पर शिवाजी महाराज महादेव के दरबार में पधारे यह अंबाजी के बेटे कृष्णा जी ने शिवाजी महाराज को यह तलवार द्वार भेट दी थी. ऐसी अद्भुत तलवार थी. जिसे देख महाराज ने तुरंत आदेश जारी किया कि मेरी सेना के सभी सैनिकों को ऐसी ही तलवारे दी जाए.

जिसके बाद स्पेन के राजा ने ऐसी ही तलवारे बनाने के लिए महाराज को संदेश भिजवाया. उसी के साथ स्पेन के टोलेंडो शहर से एक तलवारों का जखीरा महाराज की सेवा में पेश किया गया. न्हीं तलवारों के साथ स्पेन के राजा ने शिवाजी महाराज के लिए रत्नों से जड़े एक विशेष तलवार भी भेजी.इसी तलवार को शिवाजी महाराज ने जगदंबा नाम दिया था.

महाराज की जगदंबा तलवार अंग्रेज अपने साथ इंग्लैंड ले गई जबकि दो तलवारें भवानी तलवार और तुलजा तलवार कई सालों से लापता है. भारत सरकार ने कई बार ब्रिटेन से महाराज की तलवार भारत को वापस लौटाने के लिए कहा लेकिन अभी तक ब्रिटेन तलवार देने को राजी नहीं हुआ 

इसे भी पढ़े छत्रपति शिवाजी महाराज से संबंधित प्रसिद्ध किले कौन-कौन से हैं

महाराणा प्रताप की तलवार 

महाराणा प्रताप की तलवार
महाराणा प्रताप की तलवार

महाराणा प्रताप की तलवार :  हमारी इतिहास के अमर योद्धा महाराणा प्रताप के सामने पूरी दुनिया नतमस्तक है जब भी हुकुम युद्ध पर निकलते तो अपने पास दो तलवारें रखा करते थे. कभी उनके सामने कोई शत्रु बिना हथियार के होता तो हुकुम पहले उसे अपनी दूसरी तलवार दिया करते थे.

वह कभी किसी निहत्थे पर वार नहीं किया करते थे महाराणा प्रताप के पास बहुत से हथियार थे, और अनेकों तरह की तलवारे थी. पर मेवाड़ के राणा ओं की खानदानी तलवार जिससे राणा सांगा से लेकर महाराणा प्रताप तक ने युद्ध लड़ा वह अद्भुत तलवार थी उसका वजन 25 से 45 किलो का हुआ करता था.

इस तलवार को उदयपुर के म्यूजियम में रखा हुआ है दोस्तों जैसा कि हम जानते हैं महाराणा प्रताप का वजन 110 किलो था और भी 208 किलो के कवच वाले तथा तलवार लेकर युद्ध के मैदान में निकलते थे इतना भारी वजन होने के बावजूद चेतक हवा से बातें करते हुए दौड़ता था.

इसे भी पढ़े महाराणा प्रताप की यह रोचक बाते क्या आप नहीं जानते?

सम्राट पृथ्वीराज चौहान की तलवार 

पृथ्वीराज चौहान की तलवार
सम्राट पृथ्वीराज चौहान की तलवार

सम्राट पृथ्वीराज चौहान की तलवार : इतिहास में राय पिथौरा और आखरी हिंदू सम्राट के नाम से मशहूर महान योद्धा पृथ्वीराज चौहान ने अपने इतिहास में बहुत से युद्ध लड़े. कहा जाता है कि सम्राट के पास 900 साल पुरानी चौहानी तलवार थी.

 यह चौहान वंश की खानदानी तलवार हुआ करती थी. जब भी कोई नए राजा गद्दी संभालते तो उनको राज्य अभिषेक के साथ यह तलवार दी जाती. इस तलवार में 4 इंच की पक्की सोने की मुठ हुआ करती थी, और तेज दमस्कत से बनाई हुई है तलवार इतिहास के महान युद्ध तराइन के युद्ध के समय सम्राट के पास ही थी.

 उस युद्ध के बाद से इस तलवार का जिक्र कहीं नहीं मिला पर अभी कुछ समय पहले ही राव माधो सिंह ट्रस्ट ने अपने पास रखे हथियारों की एक प्रदर्शनी आयोजित की ,जिसमें उन्होंने एक अद्भुत तलवार जनता के सामने पेश की यह हूबहू सम्राट की चौहानी तलवार जैसी सोने की मुठ वाली तलवार थी. 

38 इंच की इस तलवार पर लिखा था सरकार श्री पृथ्वीराज बहादुर सवंत 1282, पर अभी तक पूरी तरह से स्पष्ट नहीं है कि यह तलवार सच में सम्राट की चौहानी तलवार है या उनके तलवार के जैसी बनाई हुई कोई अन्य तलवार है .

महाराजा रणजीत सिंह की तलवार 

रणजीत सिंह की तलवार
महाराजा रणजीत सिंह की तलवार

महाराजा रणजीत सिंह की तलवार : शेरे पंजाब के नाम से मशहूर महाराजा रणजीत सिंह एक ऐसे योद्धा थे जिन्होंने विपरीत परिस्थितियों के बावजूद सिख  सामराज्य खड़ा करने में कामयाब रहे. उन्होंने अपने काल में अनेकों युद्ध लड़े. जिसके बाद उनकी धाक कायम होती चली गई कहा जाता है कि महाराजा रणजीत सिंह की तलवार को अंग्रेज इंग्लैंड ले गए.

अभी हाल ही में महाराजा रणजीत सिंह की तलवार  को एक भारतीय दल ने ब्रिटेन में खोज निकाला दरअसल महाराज की तलवार भारत में राज करने वाले अंग्रेजों की सेना के 1 सैनिक के वंशज के पास मिली. सैनिक के उस वंसज ने बताया कि उसके दादा अंग्रेजों की सेना के सिपाही थे. वह अपने साथ हिंदुस्तान से यह तलवार लेकर आए थे.

इस तलवार की धार पर महाराजा का एक चित्र भी बना हुआ है. जिसके नीचे गुरुमुखी में सत्र पंजाब लिखा हुआ है. इस तलवार की मूठ पर गुरुमुखी लिपि में महाराजा रणजीत सिंह लाहौर लिखा हुआ है. तलवार की तथाकथित मालिक ने बताया कि हमने सोचा की  यह इस्लामी तलवार है, किसी मुगल राजा की होगी. 

तब भारत से कई लोगों ने गुरुमुखी लिपि को देखकर बताया कि यह कोई आम तलवार नहीं बल्कि पंजाब के महान योद्धा महाराजा रणजीत सिंह  की तलवार है 18 मार्च को इंग्लैंड में तलवार की नीलामी हुई. 33 इंच लंबी तलवार को भारतीय मूल के डीलर ने बहुत बड़ी रकम देकर नीलामी में खरीद लिया.

 दोस्तों हमारे देश के बहुत से योद्धाओं के बहुत से हथियार इंग्लैंड में पड़े हैं आए दिन अंग्रेजी नीलाम करते रहते हैं इससे इंग्लैंड की सरकार भारी रकम कमाते हैं. अभी हाल ही में अंग्रेजों ने टीपू सुल्तान की तलवार की नीलामी की जिसमें विजय माल्या ने टीपू सुल्तान की तलवार 21 करोड रुपए में खरीदा. तलवार की मुठ पर बाघ बना हुआ था .

इसी नीलामी में अंग्रेजों ने टीपू सुल्तान के हत्यारों को 56 करोड रुपए में बेचा टीपू सुल्तान के हथियार पर बाघ की आकृति बनी हुई थी इस वीडियो को लाइक जरुर 

आज मैंने इस लेख के माध्यम से आपको इतिहास की सबसे खतरनाक तलवारे ,छत्रपति शिवाजी महाराज की तलवार ,महाराणा प्रताप की तलवार ,सम्राट पृथ्वीराज चौहान की तलवार ,महाराजा रणजीत सिंह की तलवार के बारे में जानकारी देने का प्रयास किया है ये जानकारी आपको कैसी लगी हमें कमेंट कर जरूर बताएं . साथ ही साथ इस पोस्ट को facbook , Tweeter, whatsapp, telegram के माध्यम से साझा करे . धन्यवाद् !

Leave a Comment