अंतरास्ट्रीय योग दिवस 2021 ,International Yoga Day 2021, निबंध ,महत्व international yoga day quotes

दोस्तों आज मैं आप सभी के बीच अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस संपूर्ण जानकारी लेकर आया हूं कि अंतरराष्ट्रीय योग दिवस 2021, international yoga day 2021, international yoga day quotes . सबसे पहले दोस्तों हम चलते हैं योग के इतिहास के बारे में जानते हैं या जानकारी मैं अपने माध्यम से आप लोगों तक पहुंचाना चाहता हूं.

अंतरास्ट्रीय योग दिवस 2021 ,International Yoga Day 2021, निबंध ,महत्व international yoga day quotes

योग का इतिहास (History Of Yoga)

योग का इतिहास (History Of Yoga) के बारे में जानते हैं गीता के श्लोक में कहा गया है
योग: कर्मसु कौशलम्
कर्मों में कुशलता ही योग है हालांकि यह योग (Yoga) का परिभाषा नहीं है, लेकिन संस्कृत का यह वाक्य मनुष्य जीवन में बहुत बड़ा महत्व रखता है। आम भाषा में बोला जाए तो मनुष्य जो कर्म करता है और कुशलता से करता है। उसे ही योग (Yoga) कहा जाता है। वैसे तो भारतीय साहित्य में योग (Yoga) की अलग-अलग परिभाषा विद्वानों ने दी है जिनमें सब के अलग-अलग मत हैं। भारतीय शास्त्र में योग (Yoga) को अलग-अलग रूप में बताया और दर्शाया गया है। भारतवर्ष (India) में योग का इतिहास (History of Yoga) लगभग 5000 साल पुराना है। महर्षि अगस्त्य ने योगिक तरीके से जीवन जीने की संस्कृति को गढ़ा था। प्राचीनतम धर्म में योग (Yoga) विद्या का प्रचलन पाया जाता है। योग विद्या में भगवान शिव (Lord Shiva) को आदि गुरु या आदि योगी माना जाता है। योग (Yoga) का उल्लेख प्राचीन सिंधु घाटी सभ्यता में भी देखने को मिलता है।

मानव जीवन में क्यों जरूरी है योग (Why yoga is important in human life)

योग (Yoga) मानव की जीवन में एक महत्वपूर्ण कड़ी है। या यूं कहें की योग (Yoga) मानव जीवन जीने की कला है। योग (Yoga) से मनुष्य का शारीरिक मानसिक तथा अध्यात्मिक विकास होता है। योग (Yoga) के माध्यम से मनुष्य अपने आप को स्वस्थ और शरीर के विकार को दूर कर सकता है।

अंतरराष्ट्रीय योग दिवस 2021 कब है (International Yoga Day 2021)

भारत (India) समेत संपूर्ण विश्व (World) में 21 जून (21 st of June) को योग (Yoga) दिवस के रूप में मनाया जाता है। इस दिन का भी एक अलग महत्व है। 21 जून वर्ष का सबसे लंबा दिन होता है। इस दिन सूर्योदय (Sunrise) जल्दी होता है और सूर्यास्त (Sunset) विलंब से होता है। वर्ष 2014 में संयुक्त राष्ट्र महासभा में भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Narendra Modi) ने 21 जून को अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस (International Yoga Day) के रूप में घोषित करवाया। हालांकि इसकी शुरुआत वर्ष 2015 में हुई.
अंतरराष्ट्रीय योग दिवस 2021 कब है (International Yoga Day 2021) अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस इस वर्ष भी 21 जून को पूरे विश्व में मनाया जाएगा।

International Yoga Day 2021

International Yoga Day 2021 में 21 जून को मनाया जाएगा ।

योग का उद्देश्य (Purpose of yoga)

योग का उद्देश्य (Purpose of yoga) : – मनुष्य जीवन में योग (Yoga) का एक अपना उद्देश्य है। योग (Yoga) के माध्यम से मनुष्य अपने जीवन में उत्तम शारीरिक क्षमता का विकास (Devlopment) कर सकता है, साथ ही साथ योग (Yoga) के माध्यम से मनुष्य अपने जीवन में तनाव (Stress) से मुक्ति, शारीरिक रोगों से मुक्ति, मानसिक शांति तथा प्रकृति विरोधी जीवन शैली में सुधार ला सकता है।

आम दिनचर्या में योग का लाभ (Benefits of Yoga in Common Routine)

आम दिनचर्या में योग का लाभ (Benefits of Yoga in Common Routine) बहुत सारे हैं.आज 21वीं सदी में मनुष्य कई प्रकार की विकारों और रोगों से घिर गया है। योग शारीरिक और मानसिक (Physical and Mental) दोनों प्रकार के विकारों में प्रभावी है। आज काल के दिनचर्या (Daily Routine) के हिसाब से मनुष्य जीवन पाचन विकार, मधुमेह, अस्थमा, रक्तचाप (Digestive Disorders, Diabetes, Asthma, Blood Pressure) के साथ-साथ कई और बीमारियों से घिर गया है। कई इनमें से कई बीमारियां तो घातक और जानलेवा भी साबित हो रही है। इन सब रोगो और विकारों को दूर करने के लिए योग (Yoga) एक अहम भूमिका निभाता है तथा नियमित तौर पर योग (Yoga) की क्रियाओं का पालन करने से बीमारियों को नियंत्रित तथा दिनचर्या (Daily Routine) के हिसाब से अपने आप को तंदुरुस्त रखा जाए सकता है।

योग के प्रकार (Type of Yoga)

योग के प्रकार (Type of Yoga): –
योग (Yoga) चार प्रकार होते हैं। जो निम्नांकित है:-

  1. राजयोग
  2. कर्म योग
  3. भक्ति योग
  4. ज्ञान योग

राजयोग क्या है ?

राजयोग का मतलब राजसी योग से है। राजयोग को अष्टांग योग नाम दिया गया है। राजयोग के आठ अंगो का नाम यम, नियम, आसन, प्रत्याहार, धारणा, समाधि, प्राणायाम और ध्यान है।

कर्म योग क्या है ?

कर्म योग का तात्पर्य जीवन में किए गए कार्य या कर्म से जुड़ा रहता है। हमारे अतीत के कार्य का परिणाम वर्तमान में मिलता है और वर्तमान में किए गए कर्म का परिणाम भविष्य में सम्मुख आता है। कर्म योग का तात्पर्य निस्वार्थ और इमानदारी से जीवन व्यतीत (Spent) करना होता है।

भक्ति योग क्या है ?

भक्ति योग मनुष्य जीवन में भक्ति के मार्ग या परमात्मा द्वारा दिखाए गए राह पर चलने को भक्ति मार्ग कहा जाता है। जो एक सकारात्मक ऊर्जा (Positive Energy) का निर्माण कर हमारे दिनचर्या से नकारात्मक ऊर्जा (Negative Energy) को खत्म करता है।

ज्ञान योग क्या है?

ज्ञान योग अपने जीवन काल में
अपनी बुद्धि या अक्ल का भरपूर इस्तेमाल कर साहित्य ग्रंथ और इतिहास के आधार पर अपनी बुद्धि को विकास करना तथा बौद्धिक रूप से अपने को बलशाली बनाना है।

कैसे करना चाहिए योग (How To Do Yoga)

योग कैसे करना चाहिए? आपको जानने की आवश्यकता है योग (Yoga) के जो भी आसन या क्रियाएं हैं, उन्हें पूर्ण तरीके से समझ कर और विशेषज्ञ के देखरेख में ही करना फायदेमंद होता है। गलत तरीके से योग (Yoga) करने पर कई तरह की शारीरिक अवरोध (Physical Barrier) भी होने लगता है।

आज के जीवन में योग की स्थिति (Status Of Yoga in Today’s Life)

आज के जीवन काल में योग (Yoga)को कई संस्था और विशेषज्ञों द्वारा सरल बनाकर आम जीवन में बताया गया है। पतंजलि योगपीठ हरिद्वार के बाबा रामदेव , श्री श्री रविशंकर सहित कई विशेषज्ञों द्वारा योग (Yoga) के आसनों को आसान बनाकर इसे करने के लिए आम जनों को प्रोत्साहित किया जा रहा है। जगह जगह इन विशेषज्ञों और और संस्थाओं के द्वारा शिविर का आयोजन कर योग (Yoga) करने की विधि को बताया जाता है।

निष्कर्ष (Conclusion)

हजारों साल पुरानी भारतीय संस्कृति पर आधारित योग (Yoga) के बारे में बताना या जानकारी देना हमारा हमारा उद्देश्य है। योग न सिर्फ शारीरिक बल्कि मानसिक रूप Physically but Mentally) से बल प्रदान करता है। यह एक व्यायाम (Exercise) के रूप में भी आज के समय में काफी प्रचलित हो गया है। जिससे कितने ही लोग देश-विदेश में इसका उपयोग कर खुद को लाभान्वित कर रहे हैं।

मित्रों मैंने International yoga day अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस कब मनाते हैं क्यों मनाते हैं इसके बारे में संपूर्ण जानकारी देने का एक छोटा सा प्रयास किया अगर यह प्रयास आप सभी को अच्छा लगे तो आप इसे ज्यादा से ज्यादा अपने मित्रों और परिवार जनों के साथ साझा करें साथ ही साथ इस पोस्ट को सोशल मीडिया के माध्यम से भी साझा करें आप हमें कमेंट कर सुझाव भी दे सकते हैं. धन्यवाद

इसे भी पढ़े What is hindi day ( हिंदी दिवस क्या है?)

लेखक – निखिल सिन्हा
छत्तरपुर, पलामू ,झारखंड।
पिछले 5 वर्षों से पत्रकारिता कर रहा हूं। लेखन के कार्य मे रुचि रखता हूँ।

निखिल सिन्हा
निखिल सिन्हा

Leave a Comment