EVS क्या है -EVS ka full form ,EVS का क्या मतलब है?

नमस्कार दोस्तों आज हम आपके लिए लाये एक महत्वपूर्ण विषय जो हम सब के जीवन के लिए बहुत ही महत्वपूर्ण है वो विषय है EVS का फुल फॉर्म : Environmental Studies , ईवीएस क्या है?, जैविक और अजैविक घटक क्या हैं?, हम EVS का अध्ययन क्यों करते हैं? पर्यावरण संरक्षण क्यों जरूरी है। EVS ka full form in hindi ,EVS का क्या मतलब है?,पर्यावरण अध्ययन में करियर जो इस लेख के माधयम से बताने का प्रयास कर रहा हु इसे पूरा समझने के लिए हमारे पोस्ट के साथ बने रहे.

EVS का क्या मतलब है?

पर्यावरण दो मुख्य तत्वों जैविक और अजैविक से बना है। अर्थात् पर्यावरण हमारे चारों ओर जो कुछ भी है, उससे बना है।

या उदाहरण के लिए, जब हम किसी पार्क में जाते हैं और सभी जीवित और निर्जीव घटकों को हम अपने आस-पास देखते हैं, तो पर्यावरण उन्हीं से बना है।

इस लेख में हम आपको बताएंगे कि EVS क्या है और ईवीएस का अध्ययन क्यों किया जाता है।

EVS का फुल फॉर्म – EVS ka full form

Environmental Studies,EVS क्या है -EVS ka full form,EVS का अध्ययन ,पर्यावरण संरक्षण
EVS क्या है -EVS ka full form

EVS ka full form, EVS का फुल फॉर्म Environmental Studies होता है . 

EVS ka full form in hindi 

EVS ka full form in hindi : यह हिंदी में  एनवायरनमेंटल स्टडीज होता है, जिसे Environmental Studies के नाम से जाना जाता है।

EVS के अन्य Full Form

European Voluntary Serviceयूरोपीय स्वैच्छिक सेवा
Electronic Variable Speedइलेक्ट्रॉनिक चर गति
Enhanced Vision Systemउन्नत दृष्टि प्रणाली
Erdman Video Systemsएर्डमैन वीडियो सिस्टम्स
Enterprise Visibility Systemउद्यम दृश्यता प्रणाली
Ear Voice Spanकान की आवाज स्पैन
Emergency Vehicle Serviceआपातकालीन वाहन सेवा
Exposure Value Systemएक्सपोजर वैल्यू सिस्टम
Extra-Vehicular Suitअतिरिक्त वाहन सूट
Electronic Village Systemsइलेक्ट्रॉनिक ग्राम प्रणाली
Electronic Videogame Storeइलेक्ट्रॉनिक वीडियोगेम स्टोर
Eritrea Video Servicesइरिट्रिया वीडियो सेवाएं
Electronic Vehicle Stabilityइलेक्ट्रॉनिक वाहन स्थिरता

Full Form of EVS in Academics

EVS full form – Environmental Studies (EVS) is the interdisciplinary academic

EVS क्या है?

EVS क्या है, ईवीएस क्या होता है, अर्थात पर्यावरण के अध्ययन को क्या कहा जाता है? :

पर्यावरण के भौतिक, रासायनिक और जैविक कारक हमारे चारों ओर मौजूद हैं। जो हमारे जीवन और जीने के तरीके बनाते हैं।

Environmental study को अक्सर पारिस्थितिकी विज्ञान के साथ जोड़ दिया जाता है। यानी सरल शब्दों में, पर्यावरण के साथ रहने वाले समुदाय के पारस्परिक संबंधों के अध्ययन को (environmental study) पर्यावरण अध्ययन माना जाता है।

लेकिन पर्यावरण का अध्ययन (environmental study) पूरी दुनिया का अध्ययन करने जैसा है। पर्यावरण मुख्य रूप से पर्यावरण का अध्ययन है जो जीवों के जीवन के तरीके को प्रभावित करता है।

EVS का सरकारी meaning

यूरोपीय स्वैच्छिक सेवा (The European Voluntary Service)  (EVS) एक यूरोपीय आयोग की योजना (European Commission scheme) है जो 18-30 वर्ष के बच्चों को यूरोप में दीर्घकालिक स्वयंसेवी कार्य करने के लिए प्रोत्साहित करती है।

जैविक और अजैविक घटक क्या हैं?

जैविक घटक क्या है ?

जैविक घटक – पर्यावरण के जैविक घटकों में कीड़े, रोगाणु, सभी प्रकार के जानवर, पौधे और उनसे जुड़ी सभी जैविक गतिविधियाँ और प्रक्रियाएँ शामिल हैं।

अजैविक घटक क्या है ?

अजैविक घटक- निर्जीव तत्व और उनसे जुड़ी प्रक्रियाएं पर्यावरण के अजैविक घटकों में शामिल हैं।

उदाहरण के लिए चट्टानों, नदियों, पर्वतों के अतिरिक्त वायु तथा जलवायु के तत्वों को अजैविक घटक कहते हैं।

EVS के विषय

मनुष्य जाति का विज्ञानAnthropology
आचार विचारEthics
भूगोलGeography
प्राकृतिक संसाधन प्रबंधनNatural Resource Management
नीतिPolicy
राजनीतिPolitics
प्रदूषण नियंत्रणPollution Control
शहरी नियोजनUrban Planning

EVS का अध्ययन क्यों महत्वपूर्ण है?

हमें EVS का अध्ययन क्यों करना चाहिए या हमें क्यों अध्ययन करना चाहिए?

यूजीसी यानी विश्वविद्यालय अनुदान आयोग ने वर्ष 2019-20 के पाठ्यक्रमों में पर्यावरण विज्ञान से संबंधित पढ़ाई शुरू करने के आदेश जारी किए हैं.

इन निर्देशों के अनुसार सभी विश्वविद्यालय और कॉलेज स्नातक करने वाले छात्रों के लिए पर्यावरण विज्ञान में डिप्लोमा पाठ्यक्रम शामिल करेंगे।

पाठ्यक्रम अध्ययन का मुख्य उद्देश्य यह होगा कि युवा पीढ़ी पर्यावरण संरक्षण के प्रति जागरूक हो।

साथ ही छात्रों को पर्यावरण संरक्षण के प्रति जागरूक करना विश्वविद्यालयों और कॉलेजों का काम होगा।

Environmental study  बहुत ही आसान और रोचक विषय है। पर्यावरण क्या है, पर्यावरण संरक्षण क्यों महत्वपूर्ण है और पर्यावरण का संरक्षण कैसे किया जा सकता है, इन महत्वपूर्ण बातों को स्कूलों में तीसरी कक्षा के पाठ्यक्रम में शामिल किया गया है।

स्कूलों में पढ़ाए जाने वाले EVS course  का पूरा नाम Environmental study  है। बच्चे अन्य विषयों के साथ-साथ ईवीएस यानी पर्यावरण से जुड़ी इन अहम बातों का भी अध्ययन कर रहे हैं।

इसका सबसे बड़ा फायदा यह होगा कि बच्चे यह जानकर बड़े होंगे कि पर्यावरण की रक्षा करना क्यों जरूरी है और सबसे महत्वपूर्ण बात यह है कि पर्यावरण संरक्षण कैसे किया जा सकता है।

इसके अलावा मौजूदा समय में हर सरकारी परीक्षा में 35 नंबर तक के ईवीएस से जुड़े सवाल पूछे जाते हैं।

पर्यावरण संरक्षण क्यों महत्वपूर्ण है?

मनुष्य को जीवन जीने के सभी संसाधन पर्यावरण से मिलते हैं। जिसमें पर्यावरण के मुख्य तत्व मिट्टी, जल, वायु, जीव और सौर ऊर्जा हैं।

वायु, जल, पृथ्वी और जीव भी पर्यावरण का निर्माण करते हैं।

वर्तमान समय में प्रदूषण, जलवायु में निरंतर परिवर्तन जैसी पर्यावरणीय समस्याएं पूरी दुनिया के लिए एक समस्या बन गई हैं।

यदि हम एक अध्ययन पर नजर डालें तो पर्यावरण में ऐसे नकारात्मक परिवर्तन होते रहते हैं तो वह समय दूर नहीं जब हमें ताजी हवा मिलना बंद हो जाएगी।

पर्यावरण के साथ छेड़छाड़ का मुख्य कारण मनुष्य है। हमें अपने जीवन जीने के तरीके को काफी हद तक बदलने की जरूरत है।

इसलिए, पर्यावरण संरक्षण और पर्यावरण प्रबंधन से संबंधित समस्याओं को गंभीरता से लेने का समय आ गया है।

इसे भी पढ़े Bsc का फुल फॉर्म क्या है ?

पर्यावरण अध्ययन (Environmental Studies में करियर 

पर्यावरण अध्ययन (Environmental Studies) किरयर

Director of Waste Managementअपशिष्ट प्रबंधन निदेशक
Environment Journalistपर्यावरण पत्रकार
Environmental Consultantपर्यावरण सलाहकार
Environmental Scientistपर्यावरण वैज्ञानिक
Lecturerव्याख्याता
Wildlife Film-makerवन्यजीव फिल्म निर्माता
Wildlife or environmental photographerवन्यजीव या पर्यावरण फोटोग्राफर

Environmental study का उदेश्य 

  •  प्रकृति की अन्योन्याश्रयता और संबंधों के बारे में जानना और समाज का विकास करना।
  •  पर्यावरण के मुद्दों को समझने में उसकी मदद करना।
  •  पर्यावरण के अनुकूल दृष्टिकोण को प्रोत्साहित करना।
  •  सामाजिक और भौतिक वातावरण के प्रति संवेदनशीलता विकसित करना।
  • बच्चों को उनकी वास्तविक दुनिया से परिचित कराना।
  • पर्यावरण और समाज के बारे में ज्ञान विकसित करना।
  • अवलोकन और सकारात्मक कार्यों को बढ़ावा देना।

आज आपने क्या सिखा 

आज के इस आर्टिकल से  हमने सीखा है कि पर्यावरण में वह सब शामिल है जो हमारे दैनिक जीवन और उससे संबंधित गतिविधियों को प्रभावित करता है। और या मनुष्य जीवन के लिए बहुत ही महत्वपूर्ण है .

हमने आपको इसके साथ साथ EVS  के बारे में सब कुछ  बताने का प्रयास किया है अगर आपको यह लेख पसंद आया हो तो हमें कमेंट करे और इसे facbook , wahatsup एवं अन्य माधयमो से साझा करे.

इसे भी पढ़े सीडीपीओ क्या है – CDPO full form in hindi

5/5 - (4 votes)

Leave a Comment