What is hindi day ( हिंदी दिवस क्या है?)

What is hindi day ( हिंदी दिवस क्या है?) | हिंदी दिवस पर लेख| हिंदी दिवस कब मनाया जाता है?

हम सभी हिंदी भाषा से अवगत होंगे ही क्योंकि यह भाषा भारत में सबसे अधिक लोकप्रिय भाषा माना गया है परंतु क्या आपको ज्ञात है की हिंदी दिवस क्यों मनाया जाता है?

हिंदी दिवस को भारत में मनाया जाता है जिसका संबंध हिंदी भाषा से जुड़ा हुआ है और यह हम जानते हैं कि हिंदी भाषा को भारत की राजभाषा का दर्जा मिला है जब से यह दर्जा मिला है हर वर्ष हिंदी दिवस के रूप में इसे मनाया जाता है, हिंदी दिवस मनाने के बहुत कारण हैं उसमें से मुख्य रूप से हिंदी भाषा के प्रति जागरूकता करना है ।
आज भी अधिकांश जगह सरकारी कार्यालय दुकान है एवं अन्य संस्थानों पर हिंदी भाषा का पूर्ण रूप से उपयोग नहीं होता है हिंदी दिवस ऐसे ही लोगों को हिंदी भाषा के प्रति जागरूक करने के लिए मनाया जाता है हम भी आज यही कोशिश करेंगे कि आपको हिंदी भाषा के बारे में संपूर्ण जानकारी आपके समक्ष रखें ताकि लोगों को समझ में आए कि हिंदी भाषा हमारे लिए कितना महत्वपूर्ण है और हमें यह भी समझाना है कि हिंदी दिवस क्यों मनाया जाता है?

What is hindi day ( हिंदी दिवस क्या है?)

हिंदी दिवस
हिंदी दिवस फ़ोटो

पूरे भारतवर्ष में जो भाषा उपयोग होती है उसमें से हिंदी भाषा सबसे अधिक उपयोग होता है। जब यह भाषा भारतवर्ष में राज्य भाषा के रूप में लागू किया गया तब बहुत से लोग इस भाषा का विरोध प्रदर्शन किए परंतु आखिर में बहुत ही समस्याओं से गुजरने के बाद भी हिंदी भाषा को राजभाषा का दर्जा मिल ही गया।
हिंदी दिवस के कार्यक्रम पूरे भारतवर्ष में होते हैं इस कार्यक्रम में मुख्य रूप से हिंदी भाषा पर निबंध कविताएं गीत प्रतियोगिता वाद विवाद प्रतियोगिता का आयोजन देखने को मिलता है इसका मुख्य कारण है हिंदी भाषा को पूरे भारतवर्ष में बढ़ावा देना एवं इस भाषा लिखे अनेक लेखकों को पुरस्कृत भी किया जाता है। हिंदी दिवस को बहुत सारे हिंदी प्रेमी विरोध करते हैं क्योंकि उनका मानना है कि सरकार के द्वारा सिर्फ वर्ष में एक बार हिंदी भाषा को याद किया जाता है यहां तक की सरकारी दफ्तरों में बोलचाल एवं लिखावट में हिंदी भाषा का पूर्ण रूप से उपयोग नहीं होता है यह भाषा को राजभाषा का दर्जा तो मिल गया है परंतु सरकारी कार्यालयों विद्यालयों एवं अन्य संस्थाओं में हिंदी भाषा का प्रयोग ना करके विदेशी भाषाओं का प्रयोग किया जा रहा है।

हिंदी दिवस को कब मनाया जाता है?

हिंदी दिवस हर वर्ष 14 सितंबर को मनाया जाता है क्योंकि 14 सितंबर 1949 को हिंदी भाषा को भारतवर्ष की राजभाषा का मान्यता मिला था इसी दिन हिंदी भाषा को लेकर बड़े-बड़े निर्णय लिए गए थे। जब 14 सितंबर 1949 को संविधान में संशोधित कर निर्णय लिया गया कि हिंदी ही भारत की राजभाषा होगी तब अंग्रेजी भाषा को हटाए जाने की खबर पूरे देश भर में फैलने लगी जिससे जगह जगह पर दंगे एवं प्रदर्शन होने लगे इसी कारण तमिलनाडु में 1965 के दंगे हुए थे।

हिंदी दिवस का इतिहास क्या है?

आज पूरे भारतवर्ष में लगभग 70% से अधिक लोग हिंदी भाषा का उपयोग बोलचाल एवं लिखित रूप से करते हैं। हिंदी दिवस की देहात की बात करें तो वर्ष 1918 में गांधी जी ने हिंदी साहित्य सम्मेलन किया उसमें उन्होंने हिंदी भाषा को राज्य भाषा बनाने पर जोर दिया और कहा था की हिंदी भाषा भारतवर्ष के जनमानस की भाषा है। भारत आजाद होने के बाद भारत की राष्ट्रभाषा के प्रश्न को देखते हुए 14 सितंबर 1949 को काफी विचार विमर्श करने के बाद भारतीय संविधान के भाग 17 के अनुच्छेद 343(1) मैं वर्णित किया गया की संघ की राष्ट्रभाषा हिंदी और लिपि देवनागरी होगी। 14 सितंबर के दिन ही मूर्धन्य साहित्यकार व्यौहार राजेन्द्र सिन्हा का 50 वा जन्म उत्सव था यही कारण रहा की हिंदी दिवस को इस दिन के लिए श्रेष्ठ माना गया था।

हिंदी दिवस कैसे मनाया जाता है?

हिंदी दिवस के दिन अनेकों अनेक कार्यक्रमों का आयोजन होता है इसमें हिंदी विद्यालयों कार्यक्रम आयोजित किए जाते हैं ।जिसमें मुख्य रुप से हिंदी भाषा पर कविता निबंध लेखन वाद विवाद एवं अन्य प्रकार के कई चीजें शामिल हैं, हिंदी दिवस के दिन कई प्रकार के पुरस्कारों का भी वितरण किया जाता है जैसे राजभाषा गौरव और राजभाषा कृति पुरस्कार इसी दिन दिए जाते हैं।

thought of the day in hindi

आज के समय में हमें अपने हिंदी भाषा को ज्यादा से ज्यादा सीखना व् सिखाने की आवश्यकता है कियोंकि ये हमारी मातृभाषा है , हमें आज से नहीं अभी से ये सकल्प लेना चाहिए की जो भी हम हिंदी भाषा का प्रयोग हमेसा करेंगे .

आज हमने हिंदी भाषा एवं हिंदी दिवस के विषय पर आपके बीच कुछ खास बातें रखी अगर यह बातें आपको अच्छी लगी हो तो ज्यादा से ज्यादा अपने मित्रों के साथ साझा करें एवं सोशल साइटों पर जैसे Facebook , tweeter, एवं अन्य माध्यमों से शेयर करें।

Written by – गोलुबाबू शाह

यहाँ से रेटिंग दें post

Leave a Comment